स्टार्ट अप इंडिया अभियान में वैज्ञानिक एवं तकनीकी संस्थानों की भूमिका संयुक्त राजभाषा वैज्ञानिक संगोष्ठी - 17 मार्च, 2016

भारत के बहुमुखी विकास के लिए हाल ही में प्रधान मंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने स्टार्ट अप इंडिया अभियान का शंखनाद किया जिसके माध्यम से भारत के आर्थिक विकास के साथ साथ उद्यमकर्ता तथा रोजगार का सृजन करना मुख्या उद्देश्य है| इस मिशन में विज्ञानं एवं प्रोद्योगिकी संस्थानों का महत्वपूर्ण योगदान होगा | इस सन्दर्भ में 17 मार्च, 2016 को भुवनेश्वर स्थित विभिन्न मंत्रालयों के उच्च स्तरीय शैक्षणिक एवं वैज्ञानिक संस्थानों भा.कृ.अनु.प- केंद्रीय कृषिरत महिला संस्थान; सीएसआईआर - खनिज एवं पदार्थ प्रोद्योगिकी संस्थान, जीव विज्ञानं संस्थान, भौतिकी संस्थान, और राष्ट्रीय विज्ञानं शिक्षा एवं अनुसन्धान संस्थान, भुवनेश्वर के संयुक्त प्रयास से राजभाषा हिंदी में स्टार्ट अप इंडिया अभियान में विज्ञानं एवं तकनीकी संस्थानों कि भूमिका विषय पर वैज्ञानिक संगोष्ठी आयोजित की गयी | डॉ (श्रीमती) जतिन्दर किश्तवारिया, निदेशक भा.कृ.अनु.प- केंद्रीय कृषिरत महिला संस्थान, भुवनेश्वर ने इसकी अध्यक्षता की तथा विज्ञान से जुड़े हुए शोध संस्थानों के कार्य द्वारा स्टार्ट अप इंडिया अभियान में अहम् भूमिका पर प्रकाश डाला | विशेषकर भारत में उद्यमी महिलायों की स्टार्ट अप इंडिया कार्यक्रम में, उनकी असीम क्षमताओं पर प्रकाश डाला | प्रो बी आर शेखर, रजिस्ट्रार भौतिक संस्थान, डॉ डी बी मिश्रा, जीव विज्ञान संस्थान, प्रो वी चन्द्रशेखर, निदेशक नाईसर तथा श्री एस के मिश्रा, मुख्य वैज्ञानिक, सी एस आई आर - खनिज एवं पदार्थ प्रोद्योगिकी संस्थान ने उद्घाटन समारोह में उपर्युक्त विषय पर अपने बहुमूल्य विचार प्रस्तुत किया|

इस संगोष्ठी में विज्ञानं एवं प्रद्योगिकी से जुड़े विभिन्न संस्थानों से लगभग 104 प्रतिभागी ने भाग लिया तथा संगोष्ठी के विषय पर लगभग 9 वक्ताओं द्वारा शोध पत्र/ व्याख्यान प्रस्तुत किए गए| उपर्युक्त पांच संस्थानों द्वारा संयुक्त राजभाषा वैज्ञानिक संगोष्ठी आयोजन की प्रतिबद्धता एवं कड़ी में, दूसरे वर्ष भा.कृ.अनु.प- केंद्रीय कृषिरत महिला संस्थान, भुवनेश्वर द्वारा आयोजित किया गया है| राजभाषा के माध्यम से भुवनेश्वर तथा उसके निकटवर्ती क्षेत्रों के विभिन्न उच्च स्तरीय शोध एवं शैक्षणिक संस्थानों द्वारा प्रकाशित अनुसन्धान कार्य एवं उनके परिणामों को पत्र-पत्रिकाओं द्वारा एक दूसरे सरे के साथ संप्रेषित करना भी इस संगोष्ठी का लक्ष्य है | इस संयुक्त राजभाषा वैज्ञानिक संगोष्ठी का समन्वयन श्री वी गणेश कुमार, भा.कृ.अनु.प- केंद्रीय कृषिरत महिला संसथान, भुवनेश्वर; श्री भगवान बेहेरा, भौतिक संस्थान; श्री डी. बि. सिंह, नाईसर; श्री डी गोस्वामी, जीव विज्ञानं संस्थान तथा डॉ मनीष कुमार एवं श्री टी वेंकट राजू, सीएसआईआर-आइएमएमटी द्वारा संयुक्त रूप से किया गया | डॉ आभा सिंह, वरिष्ट वैज्ञानिक तथा संगोष्ठी संयोजक ने संगोष्ठी का सफलतापूर्वक आयोजन किया |

 

GKS